मेडिकल

भारतीय नौसेना

असैनिक जगत के अन्य व्यवसायों की तुलना में भारतीय नौसेना नवयुवकों और युवतियों को करियर का बेहतर अवसर प्रदान करती हैI

The Indian Navy

इस कार्य के संबंध में जानकारी

सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा (ए एफ एम एस) हमारे देश के चिकित्सा स्नातकों को उपलब्ध सर्वोत्तम विकल्प है जहाँ विशिष्ट श्रेणी का पेशेवर माहौल है साथ ही साहसिक जीवन शैली, सौहार्दपूर्ण माहौल, प्रतिष्ठा और स्वाभिमान से भरपूर हैI यह सेवा विश्व के सर्वोत्तम सेवा का हिस्सा बनने का सुनहरा अवसर प्रदान करती है और यह न केवल एक अफ़सर के रूप में प्रशिक्षित होने का अवसर प्रदान करती है अपितु जीवन में सज्जन पुरुष बनाने में भी सहायक होती हैI

ए एफ एम एस कैरियर के हर चरण में पेशेवर और व्यक्तिगत दोनों तरह के विकास के प्रति प्रतिबद्ध हैI सशस्त्र सेना में साहसिक क्रियाकलाप और पाठयेतर गतिविधियाँ आज के विश्व में अनिवार्य सर्वांगीण विकास को सुनिश्चित करता हैI आकर्षक वेतन और अनुलब्धियाँ के अलावा सशस्त्र सेना बेहतरीन जीवन-शैली और पेशेवर विकास का सर्वोत्तम अवसर प्रदान करती हैI

सशस्त्र सेना में उपलब्ध विशेष सुविधाएँ देश में दूसरी सेवाओं में प्रदान की जानेवाली सुविधाओं से काफ़ी बेहतर हैंI जीवन यापन की सुविधाएँ जैसे उत्तम आवास, चिकित्सा सहायता, कैंटीन सुविधा, विद्यालय, महाविद्यालय और बच्चों के लिए उच्चतर शिक्षा की सुविधा, जीवन बीमा कवर इत्यादि की सुविधा सभी को दी जाती हैंI यह लाभ सेवानिवृत्ति पर भी जारी रहता है और इसमें पर्याप्त पेंशन राशि और चिकित्सा सुविधा शामिल हैI उन लोगों के लिए खेलकूद और मनोरंजन के पर्याप्त अवसर मुहैया कराए जाते हैं जो साहसिक क्रियाकलाप और कुछ विशेष करने की इच्छा रखते हैंI

कार्य स्थल का माहौल

नौसेना में चिकित्सक के रूप में आप सैनिक को दी जानेवाली चिकित्सा के बारे में सीखने का अवसर मिलेगा और शांति और युद्ध के दौरान आपको सैनिक और उनके परिवार के स्वास्थ्य की देखभाल करने का अवसर भी मिलेगाI

नौसेना में चिकित्सा सेवाएँ पूरे देश में फैले उसके अस्पतालों के नेटवर्क के माध्यम से उपलब्ध करवाई जाती हैI पेशेवर क्रियाकलापों को मजबूती देने के लिए अस्पतालों को अत्याधुनिक उपस्करों और प्रशिक्षित पराचिकित्सा स्टाफ से सज्जित किया गया हैI देश के विभिन्न हिस्सों में तैनाती की सुविधा से मेडिकल अफ़सर को उस क्षेत्र की विशेष खूबसूरत विरासत और संस्कृति की झलक देखने को मिलती है और उन्हें जाती पंत और धर्म के बंधन से बाहर निकालकर अपने दृष्टिकोण को व्यापक बनाने का अवसर मिलता हैI संयुक्त राष्ट्रसंघ के शांति कालीन क्रियाकलापों में हमारे देश को सक्रिय सहभागिता के दौरान, ए एफ एम एस चिकित्सकों को इस मिशन के साथ प्रतिनियुक्ति पर भेजा जाता हैI

सेना चिकित्सा कोर (ए एम सी) के अफ़सर के रूप में भारतीय सेना, नौसेना या वायु सेना में वह देश के या विश्व के किसी भी हिस्सों में नियुक्त किया जा सकता है / सकती हैI

प्रशिक्षण और उन्नति

अधिकांश स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम सशस्त्र सेना चिकित्सा महाविद्यालय (ए एफ एम सी), पुणे और सशस्त्र सेनाओं के बहुत से अन्य शिक्षण अस्पतालों में आयोजित किया जाता हैI सैन्य सेवा देश और विदेश में प्रतिष्ठित असैनिक संस्थानों में सरकारी खर्चे पर सूपर-स्पेशलिस्ट कोर्सों में शामिल होने के लिए अध्ययन हुए प्राप्त करने का अवसर भी प्रदान करती हैI

शिक्षा के अवसर

बेसिक स्पेशलिटी और सूपर- स्पेशलिटी में विशेषज्ञ प्राप्त करने के पर्याप्त अवसर उपलब्ध करवाए जाते हैं I

अर्हता और अपेक्षा

अर्हता और अपेक्षा
शाखा / भर्ती की किस्म आयु - सीमा शक्षिक योग्यता
स्थाई कमीशन (पी सी) 45 वर्ष

1. आवेदक के पास भारतीय चिकित्सा परिषद द्वारा मान्यता प्राप्त एक भारतीय विश्वविद्यालय या किसी विदेशी मेडिकल अर्हता का होनी चाहिए इन्हें किसी स्टेट काउन्सिल या समकक्ष पंजी कर प्राधिकरण से भी पंजीकृत होना चाहिएI

2. प्रोत्साहन स्नातकोत्तर के लिए 3 वर्ष पूर्व दिनांकित बरिष्ठता और एम सी आई से मान्यता प्राप्त स्नातकोत्तर डिप्लोमा के लिए 2 वर्ष और हाउस जॉब के लिए 6 महीने, जो नए भर्ती हुए किसी मान्यता प्राप्त अस्पताल द्वारा किया गया होI

3. एक चिकित्सक जिसने हाउस जॉब हो और स्नातकोत्तर की अर्हता भी रखता हो उसे 42 महीने की अधिकतम पूर्व दिनांकित की वरिष्ठता का पात्र माना जाएगाI

संपर्क करें:-

डी जी एफ एम एस, एल-ब्लॉक,
पोस्ट-डी एच क्यू, नई दिल्ली-110011

ए एफ एम सी क़ैडेट भर्ती (एम बी बी एस कोर्स जिसके बाद ए एम सी में कमीशन प्रदान किया जाता है)

1. 17-22 वर्ष

2. 24 वर्ष

1. भौतिकी रसायन जीव विज्ञान (पी सी बी) विषयों सहित 10+2 में कुल अंक 60% से कम न हो और इन विषयों में से किसी में भी विषय में 50% से कम अंक न हों

2. बी एस सी

इसके लिए वर्ष में एक बार अखिल भारतीय स्तर के लिखित परीक्षा पर किया जाता है और उसके बाद पुणे में साक्षात्कार होता है इसका विज्ञापन प्रत्येक वर्ष जनवरी मास में राष्ट्रीय/ क्षेत्रीय समाचार पत्रों में किया जाता है

सेनादन्त चिकित्सा कोर(ए डी सी)- इसमें भारतीय नौसेना की दंत चिकित्सा शाखा शामिल है
सीधी स्थाई कमीशन

बी डी एस के लिए 28 वर्ष

एम डी एस के लिए 30 वर्ष

1. अंतिम वर्ष में न्यूनतम 60% अंक के बी डी एस/ विश्वविद्यालय के मान्यता प्राप्त दंत चिकित्सा महाविद्यालय से एम डी एसI

2. भारतीय दंत चिकित्सा परिषद (डी सी आई) से मान्यता प्राप्त एक वर्षीय रोटेटरी इंटेर्नशिप पूरा किया होI

3. पास स्थायी दंत चिकित्सा पंजीकरण प्रमाणपत्र होI