पोत पर जीवन

भारतीय नौसेना

असैनिक जगत के अन्य व्यवसायों की तुलना में भारतीय नौसेना नवयुवकों और युवतियों को करियर का बेहतर अवसर प्रदान करती हैI

The Indian Navy

‘नेवी कोई नौकरी (जॉब) नहीं है, न ही यह एक कैरियर है वास्तव में, यह जीवन जीने का ढंग हैI’ Barie

तट पर ड्यूटी से अलग बैरी चुनौतियां और जिम्मेदारियां समुद्री जीवन की निशानी होती हैI समुद्र में, कैप्टन अफसरों और नौसेनिकों की टीम का नेतृत्व करता हैI "पुराने अच्छे समय" में पोतों को पल के सहारे पवनों की वेग शक्ति से चलाया जाता थाI उस समय पोत पर किए जाने वाले काम में व्यापक रूप से रस्सियों पर कार्य किया जाता थाI डेक को बुहारा जाता था और पीतल पोलिश की जाती थीI लेकिन आज के पोत में विशेष सेंसर ऑपरेटर, गाइडेड मिसाइल, होमिंग, टॉरपीडो, जटिल मशीनरी और अत्याधुनिक संचार नेटवर्क आदि लगे हुए हैं I

पोत पर किए जाने वाले कार्यों को टीमों में विभाजित कर दिया जाता हैI जो अलग अलग प्रकार के काम करते हैंI उन्हें रडार, सोनार, संचार जैसे विविध उपस्करों को ऑपरेट करने अथवा मिसाइल, गन या रॉकेट जैसे हथियार को चलाने के कार्य में लगाया जाता हैI अन्य बहुप्रयोजनी टीम रसोइयों (शेफ़), स्टूवर्ड, चिकित्सा सहायकों और अन्य कार्मिकों की होती हैI जिनसे हथियारों से संबंधित कार्यों का अलग से प्रशिक्षण दिया जाता हैI समुद्र में ड्यूटी के दौरान, नौसेना के सभी कार्मिकों के कौशल, ज्ञान, संकल्प, शारीरिक और मानसिक चुस्ती की विकट परीक्षा होती हैI समुद्री ड्यूटी का तात्पर्य यह नहीं है कि आप हर समय समुद्र में ही रहेंगेI प्रत्येक पोत का अपना 'होम पोर्ट' होता है और हमारे कार्मिक पोत में या इसके आस पास काफ़ी समय व्यतीत करते हैंI समुद्र में ड्यूटी करते हुए, हमारे कार्मिक भारत और भारत के बाहर उन दूरस्थ स्थानों को देखते हैंI जिनके बारे में उन्होने तब केवल पढ़ा या सुना होता हैI जब आप समुद्र में ड्यूटी कर रहे होते हैं, उस दौरान नौसेना आपके परिवार की देखभाल अपने परिवार की तरह करती हैI

आधुनिक पोत, पनडुब्बी और भारतीय नौसेना के वायुयान अत्याधुनिक और प्रौद्योगिकीय रूप से उन्नत प्लेटफार्म हैंI पोत पर कार्यरत कार्मिक अत्याधुनिक हथियार, नौचालन यंत्र, संचार सेट, गोता उपस्कर आदि को ऑपरेट करते हैंI जिसमें उपस्करों का रख रखाव शामिल होता हैI कार्मिकों को नाविक कला, हथियार और सेंसर को ऑपरेट करने, वीक्षण (लुक आउट) ड्यूटीयों, नौका-कार्य (वोस्ट-वर्क) और कार्मिक प्रबंधन विषयों में प्रशिक्षित किया जाता हैI सभी कार्मिकों को नाभिकीय, जैव, रसायनिक युद्धपद्धति और अग्निशमन सहित क्षति नियंत्रण की कला में भी प्रशिक्षित किया जाता हैI